31-Dec-2021

<h2><strong>डेनियल सन डिग्री कॉलेज छिंदवाड़ा</strong></h2> <h2><strong>दिनांक 22 दिसंबर 2021</strong></h2> <h3><strong>स्वच्छ भारत स्वस्थ मानस थीम पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन</strong></h3> <p>डेनियल सेन डिग्री कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय, एनएसएस छेत्री निदेशालय भोपाल के क्षेत्रीय निदेशक श्री ए एस कबीर के निर्देशन में स्वच्छ भारत स्वस्थ मानस थीम पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डॉक्टर एस ए ब्राउन, कार्यक्रम अध्यक्ष के रूप में महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो श्रीमती स्मृति हाबिल विशिष्ट अतिथि के रूप में सेवानिवृत्त प्राचार्य डॉक्टर डब्लू एस ब्राउन एवं डॉक्टर मेजर आरके श्रीवास्तव विशेष रुप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी प्रो रविंद्र ना फड़े ने करते हुए जानकारी दी कि कार्यशाला का संचालन तीन चरणों में किया गया प्रथम चरण में एनएसएस स्वयंसेवकों के साथ ग्राम   ‌‌  थुनिया वन मैं जाकर स्वच्छता कार्यक्रम के अंतर्गत रैली एवं ग्रामीण साले बच्चों के समक्ष नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति देकर ग्रामीण जनों को स्वच्छता के प्रति घर घर जाकर जागरूक किया। उसके उपरांत मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित डॉक्टर ब्राउन द्वारा व्यक्तित्व विकास एवं स्वच्छता पर उद्बोधन देते हुए शरीर मस्तिष्क मन और आत्मा की शुद्धता एवं स्वच्छता को श्रेष्ठ बताते हुए अपने विचारों से एनएसएस के स्वयंसेवकों को प्रेरित किया। विशिष्ट अतिथि श्रीमती डब्ल्यू एस ब्राउन ने सामाजिक स्वच्छता और लोगों के प्रति जागरूकता के साथ-साथ सहिष्णुता पर अपने विचार रखें। महाविद्यालय की प्राचार्य श्रीमती स्मृति ह।बिल ने अतिथियों के स्वागत उद्बोधन के साथ धन्यवाद प्रेषित किया तथा एनएसएस छात्रों को स्वच्छता की शपथ दिलाई। कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों का राशियों के स्वयंसेवकों द्वारा शाल एवं श्रीफल से सम्मानित किया गया। उपस्थित स्वयंसेवकों को सभी अतिथियों के कर कमलों से प्रशस्ति पत्र के द्वारा सम्मानित किया गया। इस एक दिवसीय कार्यशाला कार्यक्रम में महाविद्यालय के प्राध्यापक गण श्री प्रभाकर भुसान कर श्री चंद्रशेखर सिंह भारद्वाज डॉक्टर माया शर्मा श्री एम तेलकर श्रीमती रानी साहू एवं सभी स्टाफ की उपस्थिति रही कार्यक्रम की सफलता में राष्ट्रीय सेवा योजना के सम सेवकों का विशेष योगदान रहा महाविद्यालय के श्री शरद चांदेकर एवं उनके सभी कर्मचारियों का कार्यक्रम को संपन्न करने में विशेष सहयोग।</p>